कांग्रेस नेता ने चिदंबरम से पूछा- क्या हमने BJP को हराने का ठेका AAP को दे दिया है?

दिल्ली विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की करारी हार के बाद अब पार्टी के भीतर सिर फुटौव्वल दिखने लगा है। दिल्ली महिला कांग्रेस की चीफ शर्मिष्ठा मुखर्जी ने अपनी ही पार्टी के नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को दिल्ली चुनाव में बीजेपी की हार और आम आदमी पीर्टी की जीत पर उनके एक ट्वीट को लेकर आड़े हाथों लिया है। पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की बेटी और पार्टी प्रवक्ता शर्मिष्ठा मुखर्जी ने पी चिंदबरम से पूछा है कि क्या हमने बीजेपी को हराने का ठेका आम आदमी पार्टी को दे दिया है?

दिल्ली विधानसभा चुनाव के एक दिन बाद ही शर्मिष्ठा मुखर्जी ने पी चिदंबरम पर हमला बोला और पूछा कि अगर कांग्रेस ने आउटसोर्स ही कर लिया है तो हमें अपनी दुकान बंद कर देनी चाहिए? बुधवार को अपने ट्वीट में शर्मिष्ठा मुखर्जी ने लिखा, ‘सम्मान के साथ चिदंबरम सर मैं बस जानना चाहती हूं कि कांग्रेस ने राज्यों में बीजेपी को हराने का काम ठेके पर दे दिया है (आउटसोर्स किया है) क्या? अगर नहीं, तो फिर हम अपनी हार के बजाय आम आमदी पार्टी की जीत पर गर्व क्यों कर रहे हैं? और अगर आउटसोर्स किया है तो हमें (पीसीसी) अपनी दुकान को बंद कर देना चाहिए।’

दरअसल, पी चिदंबरम ने आम आदमी पार्टी की जीत पर ट्वीट कर खुशी का इजहार किया था। उन्होंने ट्वीट किया था, ‘AAP की जीत हुई, बेवकूफ बनाने तथा फेंकने वालों की हार।दिल्ली के लोग, जो भारत के सभी हिस्सों से हैं, ने BJP के ध्रुवीकरण, विभाजनकारी और खतरनाक एजेंडे को हराया है। मैं दिल्ली के लोगों को सलाम करता हूं जिन्होंने 2021 और 2022 में अन्य राज्यों जहां चुनाव होंगे के लिए मिसाल पेश की है।’

पी चिदबंरम ने दिल्ली विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी की जीत को विपक्ष का हौसला बढ़ाने वाला परिणाम करार दिया है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘अगर मतदाता उन राज्यों के विचारों का प्रतिनिधित्व करते हैं जहां से वे आए थे, तो दिल्ली का मत विपक्ष के विश्वास बढ़ाने वाला है कि भाजपा को हर राज्य में हराया जा सकता है। दिल्ली का वोट राज्य विशेष के वोट की तुलना में अखिल भारतीय वोट है क्योंकि दिल्ली एक मिनी इंडिया है।’

चिदंबरम ने कहा, ‘याद कीजिए, जब दिल्ली में मतदान हुआ था तब लाखों मलयाली, तमिल, तेलुगु, बंगाली, गुजराती और भारत के अन्य राज्यों से आए लोगों ने मतदान किया था।’ बता दें कि इस चुनाव में आम आदमी पार्टी को 62 सीटें मिली हैं, वहीं बीजेपी 8 सीटें हासिल कर पाई। मगर कांग्रेस का खाता भी नहीं खुल सका।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2566155total sites visits.