हिंदी दिवस से अलग से विश्व हिंदी दिवस, दुनिया के 30 से अधिक देशों में पढ़ी-पढ़ाई जाती है हिंदी

  • हर साल 10 जनवरी को विश्व हिंदी दिवस मनाया जाता है। पहली बार 2006 में पहला विश्व हिंदी दिवस मनाया गया, इसके बाद हर साल 10 जनवरी को हिंदी दिवस मनाया जाने लगा। इससे पहले 1975 में पहली बार इंदिरा गांधी के नेतृत्व में हिंदी वर्ल्ड हिंदी कांफ्रेस का आयोजन किया गया था। इसके बाद भारत मॉरिशियस, यूके,यूएस में इसका आयोजन होने लगा। यह हिंदी दिवस से बिल्कुल भिन्न है। हिंदी दिवस भारत में 14 सितंबर को मनाया जाता है। इस दिन 1949 को संविधान सभा ने पहली बार आधिकारिक भाषा के तौर हिंदी को अपनाया था। वहीं विश्व हिंदी दिवस का मुख्य उद्देश्य इसे विश्व स्तर पर पहचान दिलाना है।

    हिंदी दुनिया के 30 से अधिक देशों में पढ़ी-पढ़ाई जाती है। लगभग 100 विश्वविद्यालयों में उसके लिए अध्यापन केंद्र खुले हुए हैं। भारत के अलावा मॉरीशस, फिजी, सूरीनाम, गुयाना, त्रिनिदाद एवं टोबैगो और नेपाल में भी हिंदी बोली जाती है। अमेरिका में लगभग 150 से ज्यादा शैक्षणिक संस्थानों में हिंदी का पठन-पाठन हो रहा है। 2016 में डिजिटल माध्यम पर हिंदी में समाचार पढ़ने वालों की संख्या 5.5 करोड़ थी, जो 2021 में बढ़कर 14.4 करोड़ होने का अनुमान है। दक्षिण प्रशांत महासागर क्षेत्र में फिजी नाम का एक द्वीप देश है, जहां हिंदी को आधिकारिक भाषा का दर्जा दिया गया है। यहां पढ़ें हिंदी पर इन महान विचारकों के कोट्स

     

    world hindi diwas

    1997 में हुए एक सर्वेक्षण में पाया गया था कि भारत में 66 फीसदी लोग हिंदी बोलते हैं, जबकि 77 प्रतिशत इसे समझ लेते हैं।

    जिस देश को अपनी भाषा और साहित्य के गौरव का अनुभव नहीं है, वह उन्नत नहीं हो सकता। – डॉ. राजेन्द्र प्रसाद

    हिंदी का प्रश्न स्वराज्य का प्रश्न है’। – महात्मा गांधी

    निज भाषा उन्नति अहै, सब भाषा को मूल, बिनु निज भाषा ज्ञान के, मिटै न हिय को शूल।— भारतेन्दु हरिश्चन्द्र

    हिन्दी पढ़ना और पढ़ाना हमारा कर्तव्य है. उसे हम सबको अपनाना है। – लालबहादुर शास्त्री

    हिन्दी के द्वारा सारे भारत को एक सूत्र में पिरोया जा सकता है। – महर्षि स्वामी दयानन्द

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2566808total sites visits.