अयोध्या विवाद पर ‘सुप्रीम’ फैसला आज, देशभर में सुरक्षा के कड़े इंतजाम

सुप्रीम कोर्ट आज (शनिवार) अयोध्या विवाद (Ayodhya Case Verdict) पर फैसला सुनाएगा। संवेदनशील राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद पर पांच जजों की पीठ ने 16 अक्तूबर को फैसला सुरक्षित रख लिया था। मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड़, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर की पांच सदस्यीय संविधान पीठ सुबह साढ़े दस बजे फैसला सुनाएगी। मुख्य न्यायाधीश ने यूपी के मुख्य सचिव और डीजीपी के साथ एक बैठक कर राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति का जायजा लिया था। शनिवार को छुट्टी के दिन सुप्रीम कोर्ट की संवैधानिक बेंच बैठेगी और फैसला सुनाएगी। इसे देखते हुए पूरे देश में सुरक्षा चाक चौबंद कर दी गई है। पढ़ें, अयोध्या विवाद से संबंधित 10 बड़ी बातें:

1- सुप्रीम कोर्ट के इतिहास में अयोध्या विवाद पर दूसरी सबसे लंबी सुनवाई हुई। लगातार 40 दिन संवैधानिक बेंच बैठी और मैराथन सुनवाई के बाद 16 अक्तूबर को फैसला सुरक्षित कर लिया गया था। इतिहास में सबसे लंबी सुनवाई केशवानंद भारती से सबंधित वाद में सुप्रीम कोर्ट में चली थी। तब 68 दिन सुनवाई चली थी।

2- अयोध्या विवाद पर शनिवार को फैसला सुनाने वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ में शामिल जजों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। पांच सदस्यीय संविधान पीठ में उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड़ , न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर हैं।

3- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को अयोध्या विवाद पर उच्चतम न्यायालय के फैसला सुनाए जाने के मद्देनजर देश के लोगों से शांति बना रखने की अपील की। उन्होंने कहा कि हम सबको मिलकर सौहार्द बनाए रखना है।

 

4- यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट कर लिखा कि माननीय उच्चतम न्यायालय द्वारा अयोध्या प्रकरण के संबंध में दिए जाने वाले संभावित फैसले के दृष्टिगत प्रदेशवासियों से अपील है कि आने वाले फैसले को जीत-हार के साथ जोड़कर न देखा जाए। यह हम सभी की जिम्मेदारी है कि प्रदेश में शांतिपूर्ण और सौहार्दपूर्ण वातावरण को हर हाल में बनाए रखें। मेरी प्रदेशवासियों से अपील है कि अफवाहों पर ध्यान न दें। प्रशासन सभी की सुरक्षा व प्रदेश में कानून व्यवस्था को बनाए रखने के लिए पूरी तरह कटिबद्ध है। कोई भी व्यक्ति यदि कानून व्यवस्था के साथ खिलवाड़ करने की कोशिश करेगा, तो उसके विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी।

5- अयोध्या विवाद पर शनिवार को आने वाले उच्चतम न्यायालय के फैसले को देखते हुए प्रदेश के सभी स्कूल, कॉलेज और विश्वविद्यालय सोमवार तक के लिए बंद कर दिए गए हैं। प्रदेश में सख्त सुरक्षा प्रबंध किए गए हैं। सुरक्षा-व्यवस्था को लेकर अयोध्या में जबरदस्त नाकेबंदी की गई है।

 

6- शिवसेना ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट कल अयोध्या पर फैसला देने जा रहा है। हमने सरकार से यह अनुरोध किया था कि वे राम मंदिर पर कानून लेकर आए लेकिन सरकार ने ऐसा नहीं किया। अब सुप्रीम कोर्ट आदेश देने जा रहा है, ऐसे में वे इसका श्रेय नहीं ले सकते हैं।

7- राम मंदिर सर्वोच्च अदालत आज फैसला सुनाएगी। यह घड़ी रामनगरी के लिए बेहद संवेदनशील है। लेकिन यहां की सुखद तस्वीर यह है कि आशंका, खौफ और तनाव कहीं नजर नहीं आता, अयोध्या प्रभु श्रीराम की भक्ति से सराबोर है। पंचकोसी परिक्रमा पथ पर दूसरे दिन भी सुरक्षा घेरे में लाखों कदम राम-नाम का जाप करते हुए आगे बढ़ते रहे।

8- अयोध्या पर फैसले के मद्देनजर यूपी के साथ देश के अन्य राज्यों में भी सतर्कता बरती जा रही है। मध्य प्रदेश पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि राजधानी भोपाल समेत 52 जिलों में अतिसंवेदनशील और संवेदनशील क्षेत्रों की पहचान की गई है। ऐसे लोगों को भी चिह्नित किया गया है, जो गड़बड़ी कर सकते हैं। ऐसे लोगों पर निगरानी जा रही है। सभी जिलो में धारा 144 लागू कर दी गई है। सोशल मीडिया पर भी विशेष निगरानी रखी जा रही है।

9- वहीं, अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने की तारीख तय होने की खबर फैलते ही देर रात अचानक अयोध्या में हलचल शुरू हो गई। इस दौरान लोग राशन जुटाने में लग गए। यहां की सब्जी मंडी में देर रात में बड़ी संख्या में लोग पहुंच गए और आने वाले कई दिनों के लिए सब्जियों की खरीदारी की। वहीं होटलों और धर्मशालाओं के साथ गुरु आश्रमों में कार्तिक पूर्णिमा स्नान करने के लिए रुके हुए श्रद्धालुओं ने वापसी शुरू कर दी।

10- महाराष्ट्र के धुले जिले से 56 वर्षीय एक व्यक्ति को अयोध्या विवाद पर फैसला आने से पहले फेसबुक पर आपत्तिजनक पोस्ट डालने के आरोप में शुक्रवार को गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने यह जानकारी दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1533415total sites visits.